गम तो बांटो जरा किसी के

नीर भरी हैं उसकी अँखियाँ
बीत रहीं हैं चुप-चुप रतियाँ

साजन गए विदेश न लौटे
कौन सुने अब मन की बतियाँ

सूनी सूनी अमराई है,
सखियों की राह तकें अमियाँ

भँवरों की मनुहार न मानें,
कितने नखरे करती कलियाँ

गम तो बाँटो जरा किसी के,
मिल जायेंगी ढेरों खुशियाँ

Like Comment 0
Views 13

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share