Mar 29, 2020 · कविता

गम्भीर है समस्या

○गम्बीर है समस्या हल्के में मत लो
○करोना की लडाई साथ मिलकर लड़ो
○घर पर अपने रहो खुद का बचाव करो
○अज्ञानता से ये है बढ़ता इतना समझ लो
○ना किसी के घर जाना है
○ ना किसी को बुलाना है
○ये मानता हूं कि आप बोर हो रहे हो
○पर इतना जान लो अच्छा है बचे हुए हो
○तभी तो सुरक्षित जीवन जी रहे हो
○दिखे जो लक्षण किसी को खुद में
○डरे नहीं डाक्टर से जाकर मिलो
○अगर करोना से हो जाए ग्रस्त कोई
○साफ स्वच्छ रहे धुप का सहारा लो
○बिमारी ही ऐसी है कोई दवा नहीं मिली है
○जरीया हर कोई अपना अपना बचाव करो
मोहन बामणिया

1 Like · 6 Views
प्रणाम दोस्तों मै एक साधारण जीवनशैली का व्यक्ति हूँ ।मैं कोई बड़ा लेखक-कवि नहीं हूँ...
You may also like: