.
Skip to content

गमो का बोझ

Raj Vig

Raj Vig

कविता

March 18, 2017

गमो का बोझ जब
दिल से उठाया न गया
आंखों से अश्कों का राज़
भी छुपाया न गया ।

दर्दे दिल चाह कर भी
किसी को बताया न गया
जख्म दिया था जिसने
नाम उसका जुबां पे लाया न गया ।

रोशनी प्यार की कम थी
बुझते दीयों को जलाया न गया
कसूर शायद हमारा ही था
जो वादा हमसे निभाया न गया ।

गुजरा नही रूठा था कोई
आवाज दे के वापस बुलाया न गया
जिन्दगी रोज गुजरती रही
अहं हमसे दबाया न गया ।।

राज विग

Author
Raj Vig
Recommended Posts
कुछ हमसे
कुछ हमसे कुछ बातें हमसे सुना करो, कुछ बातें हमसे किया करो, मुझे दिल की बात बता डालो, तुम होंठ ना अपने सिया करो, जो... Read more
क्या तुमको हमसे प्यार नहीं ?
Neelam Ji गीत Jul 15, 2017
??????? हमें तुमसे प्यार कितना तेरा इंतजार कितना तुमको एतबार नहीं क्या तुमको हमसे प्यार नहीं । चाहा तुमको हद से ज्यादा तुमने किया ना... Read more
*** रूह का साथ अगर हो ***
रूह का साथ अगर हो तो रिश्ते बोझ नहीं बनते लोग ख़ुद बनते अपने अपना बनाने से नहीं बनते रूह का साथ अगर हो तो... Read more
राज दिल में हमें ये छुपाना  पड़ा
राज दिल में हमें ये छुपाना पड़ा याद को आशियाना बनाना पड़ा ठोकरें खूब मिलती रहीं राह में बोझ उनका हमें खुद उठाना पड़ा अश्क... Read more