Nov 21, 2016 · गीत

गमले में बेला खिलता था (नव गीत)

गमले में बेला खिलता था
………………………………

छज्जे से नीचे झाँका था
गमले में बेला खिलता थाI
गमले लदे हुए फूलों से
सूरज पूरब में उगता था I

श्वेत रंग का बेला महके
टहनी पर वह कुछ झुकता थाI

धूल भरी आंधी आ गयी
भरे टोकरे अमियों से सब
दादी ने झट काटा पीटा
भरे बियान अचारों से अबI

बीन बीन कर ढेरों अमियाँ
कोई मुझे दूर तकता था।
……आभा

8 Likes · 159 Views
I am a writer ..
You may also like: