Skip to content

गणेश जी की स्तुति

साहेबलाल 'सरल'

साहेबलाल 'सरल'

मुक्तक

January 27, 2017

पान फूल मेवा जो चढ़ावें गणपति जी को
मन की मुरादें फिर मनचाही पाया है।।

अंधन को आँख देवे कोढ़िन को काया जो
बाँझन को पुत्र देवे निरधन को माया है।।

ध्यान धरता है जो मन में गणेश का
घर परिवार सुखी सुखी रहे काया है।।

सिद्ध करे काज और दीनन की लाज रखे
जय गणेश आरती को आपने जो गाया है।।

Author
साहेबलाल 'सरल'
संक्षेप परिचय *अभिव्यक्ति भावों की" कविता संग्रह का प्रकाशन सन 2011 *'रानी अवंती बाई की वीरगाथा' की आडियो का विभिन्न मंचो में प्रयोग। *'शौचालय बनवा लो' गीत की ऑडियो रिकार्डिंग बेहद चर्चित। *अनेको रचनाएं देश की नामचीन पत्र पत्रिकाओं में... Read more
Recommended Posts
मन में जागी अभिलाषा है
मन में जागी सागर से भी गहरी अभिलाषा है जिसे पूर्ण करने के लिए उत्पन्न हुई एक आशा है मेहनत कर जी तोड़कर यही सफल... Read more
शिव शंकर जी खेले होली
????? शिव शंकर जी खेले होली मैया पार्वती जी के संग। ? तीन नयन मस्तक पर चमक रहें हैं अर्ध चंद्र। लट बिखरी खुली जटा... Read more
गणेशाष्‍टक
जय गणेश, जय गणेश, गणपति, जय गणेश।। (1) धरा सदृश माता है, माँ की परिकम्मा कर आए। एकदन्त गणनायक गणपति, प्रथम पूज्य कहलाए।। प्रथम पूज्य... Read more
बहिन जी
प्रगति पथ पर बढ़ो बहिन जी। शिखर सब ऊँचे चढ़ो बहिन जी।। बैठे-बैठे कब क्या होगा। पड़े-पड़े मत सड़ो बहिन जी भाई का भी नाम... Read more