Skip to content

गणतंत्र दिवस

Naveen Jain

Naveen Jain

कविता

January 26, 2017

गणतंत्र दिवस है , राष्ट्रीय पर्व प्यारा
इसी दिन हुआ लागू , संविधान हमारा
सन् तीस में इसी दिन,मना स्वाधीनता दिवस
पूर्ण स्वराज के संदेश से, झूमा हिन्दूस्तान सारा

आज के दिन शपथ ले ले, भारतवासी हरेक
हम अनेक हैं पर एक रहेंगे, और बनेंगे नेक
देश की रक्षा के खातिर हम, अपना लहू बहाएँगे
और मरते दम तक हम अपना तिरंगा लहराएँगे

आज याद करो सब, शहीदों के बलिदान को
याद करलो अब , नेताजी के तुलादान को
याद करलो भगतसिंह और आजाद को
अब जगा लो अपने स्वाभिमान को

है विश्व गुरू, है महान , अपना भारत देश
यहाँ भिन्न – भिन्न व्यक्ति, हैं भिन्न – भिन्न वेष
अनेकता में एकता का सिद्धांत हमारा
अपना भारत देश हमें प्राणों से भी प्यारा

हम संकल्प लें आज कि भारत को अखंड बनाएँगे
अपने प्यारे भारत को हम स्वच्छ बनाएँगे
मतदान कर हम प्रजातंत्र का लाभ उठाएँगे
हम अपने वतन पर मर मिट जाएँगे

– नवीन कुमार जैन

Recommended
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
Author
Naveen Jain
नाम - नवीन कुमार जैन पिता का नाम - श्री मान् नरेन्द्र कुमार जैन  माता का नाम - श्री मती ममता जैन  स्थायी पता - ओम नगर काॅलोनी, वार्ड नं.-10,बड़ामलहरा, जिला- छतरपुर, म.प्र. पिन कोड - 471311 फोन नं -... Read more