Skip to content

गठरी

सतीश चोपड़ा

सतीश चोपड़ा

कविता

August 13, 2017

एक बुजुर्ग सिर पर गठरी उठाये बढ़ा आ रहा था
हैरान थे मंत्री जी जैसे उनका कद घटा जा रहा था

गठरी थी तो कागजो की पर बम से ज्यादा डर था
हर कागज सरकारों को लिखा गया प्रार्थना पत्र था

बारह साल हो गए उसके घर का चिराग लापता है
कौन बताये उसे कि बूढ़ा बाप हर कदम हाँफता है

साहब बड़ी उम्मीद सेे आपके दरबार में आया हूँ
साथ काम किया कभी दिन याद दिलाने आया हूँ

ये चेहरा बुझा सा ना था पैरों में दम हुआ करता था
आप प्रदेश मंत्री मैं मंडल महामंत्री हुआ करता था

अगर मेरा बेटा ना खोता तो मैं दर दर ना भटकता
ना ये हालात होते ना कोई अपना दामन झटकता

सुनते हैं न्याय है और कानून के हाथ लंबे होतेे है
जीवन छोटा है दिन इंतजार के कितने लंबे होते है

मंत्री जी बोले मरा मान लो सरकार सलाह देती है
सात साल होने पर तो पुलिस भी मरा मान लेती है

मैं तो मान लूँ साहब घर पर उसकी बूढ़ी माँ बैठी है
आज भी वो पागल उसके लिए खाना लिए बैठी है

आँसू तो सूख गए पर आँखे दरवाजे पर ही लगी है
उसका बेटा जरूर आएगा बस इसी धुन में लगी है

और भी शिकायतें थी मंत्री के पास समय न था
और भी फरियादी थे दरबार अकेले के लिए न था

यही सोच बुजुर्ग ने बेबसी की एक गहरी सांस ली
हाथ में जो थी एक और अर्जी वो ही आगे बढ़ा दी

किसी तरह उस बेचारी को भी मैं समझा ही दूँगा
मर गया हमारा बेटा कलेजे पर पत्थर रख ही दूँगा

मर गया है या मारा गया है वो ये भेद तो खुलवा दो
हत्यारे को सजा या फिर बेटे की लाश ही दिलवा दो

मंत्री के पास आस्वाशन के सिवा कोई जवाब ना था
कितना रोया कितना रोयेगा इसका भी हिसाब ना था

जाँच का आस्वाशन मीठे में लिपटा जहर दिखा था
जिसको ना निगला जा सका था ना उगलते बना था

कुछ और भारी हो चुकी गठरी को उठा वो चल दिया
आज फिर वही मिला जो किसी और ने था कल दिया

लड़खड़ाते क़दमों से वापस ना मुड़ता तो क्या करता
निराशा से घिरा सरकार को ना कोसता तो क्या करता

क्यों चुनते है हम सरकार क्या हक़ अधिकार हमारे हैं?
क्यों पिसता है गरीब क्यों अमीरों के कानून न्यारे है?

घर पर उम्मीद लगाए बैठी बेटे की माँ से क्या कहूँगा
रोकूँगा अपने आँसू या फिर उस अभागन के पोछूँगा

इसी उधेड़बुन में बेदम से शरीर को खींचे जा रहा था
खुद से भारी कागजो की गठरी को ढोए जा रहा था

कवि : सतीश चोपड़ा

Share this:
Author
सतीश चोपड़ा
नाम: सतीश चोपड़ा निवास स्थान: रोहतक, हरियाणा। कार्यक्षेत्र: हरियाणा शिक्षा विभाग में सामाजिक अध्ययन अध्यापक के पद पर कार्यरत्त। अध्यापन का 18 वर्ष का अनुभव। शैक्षणिक योग्यता: प्रभाकर, B. A. M.A. इतिहास, MBA, B. Ed साहित्य के प्रति विद्यालय समय... Read more

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you