.
Skip to content

गज़ल

Neelam Sharma

Neelam Sharma

गज़ल/गीतिका

July 14, 2017

हम ख्वाबों की कश्ती बिन जल ही डुबोते
अगर तुम न होते,अगर तुम न होते….. ।

न होता ये सावन का पावन महीना,
हां,हो जाता जीते जी मुश्किल जीना।
नहीं​ खिलता उपवन,न होता हर्षित मन
न होता आलिंगन नहीं होता समर्पण।
अगर तुम न होते,अगर तुम न होते….. ।

न खुशनुमा होता हरपल,न पूर्वा बहती अविरल,
न स्पर्श होता कोमल और न जलधारा निर्मल,
न नृत्य करता प्रेम में पगला मन मयूरा,
न गाती कोयल रहता मधुर संगीत अधूरा।
अगर तुम न होते,अगर तुम न होते….. ।

न होती आस्था, न श्रद्धा ही होती
न बजती बाँसुरी,न चाहते ही होती।
न प्रकृति खिलती न श्रृंगार करती ,
न प्रणय गीत होते और विरहा आह भरती।
अगर तुम न होते,अगर तुम न होते….. ।

न होता प्रेम प्यार न माझी गाता मल्हार,
न रिश्ते ही होते,न रखता कोई सरोकार।
न बूंदों की बौछार,न झरनों की होती फुहार,
न पूजा अर्चन होता,न मनते नित त्योहार।
अगर तुम न होते,अगर तुम न होते….. ।

न होती सजन अनबन, न मनमानापन
न रूठते पिया तुम,न होता मनावन।
न खिलते कहीं फूल, न चुभते प्रीति शूल,
न झरती अमराई, न मन लेता अंगड़ाई।
अगर तुम न होते,अगर तुम न होते….. ।

नीलम शर्मा

Author
Neelam Sharma
Recommended Posts
सिर्फ तुम/मंदीप
सिर्फ तुम/मंदीपसाई तारो में तुम फिजाओ में तुम हो चाँद की चादनी में तुम। ~~~~~~~~~~~~~~ ~~~~~~~~~~~~~~ बागो में हो तुम बहरों में हो तुम फूलो... Read more
अगर  पास.................... आजमा  लेते   |गीत|
अगर पास आके मुस्करा देते मिट जाते शिकवे आजमा लेते दिल की कहानी थोड़ा कह देते तेरे ही तो हैं आजमा लेते अगर पास…………………………………….. आजमा... Read more
[[★  ग़ज़ल प्यार की इक बियाबान लिख दूँ  ★]]
☘ ग़ज़ल प्यार की इक बियाबान लिख दूँ अगर तुम कहो तो मे'री जान लिख दूँ ☘ लिखू शेर तुझ पर लिखू में कहानी मुहब्बत... Read more
मेरी सुबह हो तुम, मेरी शाम हो तुम! हर ग़ज़ल की मेरे, नई राग़ हो तुम! मेरी आँखों मे तुम, मेरी बातों मे तुम! बसी... Read more