.
Skip to content

गजल

Rupesh Kumar

Rupesh Kumar

गज़ल/गीतिका

November 11, 2017

आये वतन पे खतरा वो जान भी लगा दो ,
ये मुल्क के जवानो जंग का ज़ूनून भर लो ,

इसी जंग के कोने मे कही जन्नत नजर आयेगी ,
जंग आ ही जाये सर पे तो जुल्म भी तू कर ले ,

आजाद मुल्क है तो आजाद हम रहेगे ,
कुर्बानियो के खातिर , कफन का ताज धर लो ,

ये ज़मी तुम्हारा , ये आंसमा तुम्हारा ,
अपनी आबरू के खातिर , अरमान दिल मे भर लो ,

रश्के जीना वतन है , अपना इस ज़हाँ मे ,
पांसवा है हर जंवा , गुलिस्तान दिल मे भर लो ,

है नहीं जंहा मे कोई भी अपना मरहम ,
दर्दनिया के दिल मे रखकर उड़ान भर लो ,

मजहब की बात छोड़ो , हम साया है अपना ,
गुलशन मे बहुत फूल है सब फूलो से प्यार कर लो !

Author
Rupesh Kumar
Recommended Posts
वतन की खातिर
कारगिल विजय दिवस पर......आपकी नज़र. शहीदों की अनमोल धरोहर संभालो वतन की खातिर ही वतन को बचालो *************************** उठो जाति मजहब सियासत से ऊपर चूम... Read more
मेरे होंठों का लरजना तुम सुन लो
मेरे होंठों का लरजना तुम सुन लो, इस बेताब दिल का धड़कना तुम सुन लो। धधकती साँसों को महसूस तुम कर लो, मचलते जज़्बातो को... Read more
मेरे होंठों का लरजना तुम सुन लो. ..
मेरे होंठों का लरजना तुम सुन लो, इस बेताब दिल का धड़कना तुम सुन लो। धधकती साँसों को महसूस तुम कर लो, मचलते जज़्बातो को... Read more
हमारा वतन है.....(ग़ज़ल)
गणतन्त्र दिवस की बहुत-२ शुभकामनाएं -------------------------- हमारा वतन हमें जां से प्यारा हमारा वतन है। दुनिया की आँखो का तारा वतन है। जहाँ में होंगी... Read more