Skip to content

गजल

Omendra Shukla

Omendra Shukla

गज़ल/गीतिका

January 18, 2017

“हर पल गुजर रहा है,अब धीरे-धीरे
कोई इश्क कर रहा है,अब धीरे-धीरे,

बादलो बरस जाओ जरा आज फिर
कोई याद कर रहा है,अब धीरे-धीरे,

वो यादो का समुन्दर फिर उमड रहा
दुर जा रहा जैसे कोई,अब धीरे-धीरे,

ना बातो से दिल बहलाओ आज तुम
इक पल करीब तो आओ,धीरे-धीरे,

क्यु रुठे हुये हो तुम बडी मुद्दतो से
मान भी जाओ जरा तुम,अब धीरे-धीरे

तुम्हारी रुह है,ये तुम्हारा ही इश्क है
कल्पो से भटकती,तुम्हारी चाह है

जगा दो इश्क फिर,या मिटादो मुझे
समाने लगी तु मुझमे,अब धीरे-धीरे”

Share this:
Author
Omendra Shukla
नाम- ओमेन्द्र कुमार शुक्ल पिता का नाम - श्री सुरेश चन्द्र शुक्ल जन्म तिथि - १५/०७/१९८७ जन्मस्थान - जिला-भदोही ,उत्तर प्रदेश वर्तमान पता - मुंबई,महाराष्ट्र शिक्षा - इंटरमीडिएट तक की पढाई मैंने अपने गांव के ही इण्टर कॉलेज से पूर्ण... Read more
Recommended for you