.
Skip to content

गजल

डॉ मधु त्रिवेदी

डॉ मधु त्रिवेदी

गज़ल/गीतिका

June 30, 2016

प्रेम तेरा फले दुआ भी दो
प्यार के रोग की दवा भी दो

याद तेरी भुला नहीं पाऊँ
रोग में आप यह सजा भी दो

आ चुकी हूँ गिरफ्त में तेरी
साथ मेरा निभा वफा भी दो

बात मेरी करे सभी पूरी
प्रेम के वेष में खुदा भी दो

प्रेम में हो गई दिवानी मैं
बन खुदा आज तुम नफा भी दो

बीत पाये न रैन दुख की अब
तुम गले से लगा हसा भी दो

चाँद बैचेन देखने को है
चेहरे को जरा दिखा भी दो

आज दुल्हन नयी नवेली हूँ
आप घूँघट जरा हटा भी दो

साँस मेरी हरेक तेरे में
रोज साँसे मुझे दिला भी दो

हूँ अनाडी अभी इश्क में मैं
प्रेम का पाठ अब पढा भी दो

प्यार में आपके पगी हूँ मैं
प्यार का वो मुझे सिला भी दो

होश खोये पता न क्यों मेरे
जाम में मधु मिला पिला भी दो

☀☀☀☀☀डॉ मधु त्रिवेदी ☀☀☀☀☀

Author
डॉ मधु त्रिवेदी
डॉ मधु त्रिवेदी प्राचार्या शान्ति निकेतन कालेज आगरा स्वर्गविभा आन लाइन पत्रिका अटूट बन्धन आफ लाइन पत्रिका झकास डॉट काम जय विजय साहित्य पीडिया होप्स आन लाइन पत्रिका हिलव्यू (जयपुर )सान्ध्य दैनिक (भोपाल ) सच हौसला अखबार लोकजंग एवं ट्र... Read more
Recommended Posts
क्या बताऊँ............. गज़ल
रदीफ़ :- गजल क्या बताऊँ तुझे मैं की क्या है गजल, बेवफा है कि तुझ सी वफा है गजल. तेरी जुल्फों में है जैसे उलझी... Read more
इनायत (ग़ज़ल)
ग़ज़ल ----- मुझपे इनायत जो तेरी बनी रहे। मेरे जीने की हसरत बनी रहे। तेरी इबादत ही है करम अपना। ये हमेशा मेरी आदत बनी... Read more
मुक्ति, युक्ति और प्रेम
मुक्ति, युक्ति और प्रेम // दिनेश एल० “जैहिंद” हो तुम कितनाहुँ बड़े कर्मयोगी ।। हो तुम कितनाहुँ बड़े धर्मयोगी ।। जनम-मरण के बीच लटके रहो,,... Read more
प्रेम
प्रेम विद्या- छंद मुक्त तेरे हृदय प्रेम का प्याला, अब तक खाली क्यों है? क्या तेरे उपवन से गया बसंत, चुप बैठा माली क्यों है?... Read more