23.7k Members 49.9k Posts

कविता : ??फूल के प्यार में??

फूलों की हवा से खाली दिल में बात आ गई।
तुझे देख शुष्क होठों पर इश्के-बरसात आ गई।।

तेरा चेहरा फूल के पहनावे की कंठी का फूल है।
हवाओं में घुलकर चेहरे की शानो-सौगात आ गई।।

फूल के प्यार के छल में छला न जाऊँ कभी मैं।
बिखर के शबनम-सी दिल में एहतियात आ गई।।

रुसवा न कर दे मुझे मासूम चेहरे का भोलापन।
फूलों की सुगंधी-सी दिल में मेरे लम्हात आ गई।।

तेरी आँखों के आईने ने तसल्ली तो दी है बहुत।
पर ख्यालों में दगा-ए-सिला की क्यों बात आ गई?

जफा-ए-सिला न देना चाहे जान ले लेना हँसकर।
शोहरत समझी है प्यार की जैसे कायनात आ
गई।।

काविशे-गमे-हिजरां बहुत मिलते हैं”प्रीतम”जमाने में।
यूँ लगता है देख उन्हे उजाला डसने रात आ गई।।
………..राधेयश्याम बंगालिया “प्रीतम”
??????????????

Like Comment 0
Views 36

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
आर.एस. प्रीतम
आर.एस. प्रीतम
जमालपुर(भिवानी)
656 Posts · 53.4k Views
प्रवक्ता हिंदी शिक्षा-एम.ए.हिंदी(कुरुक्षेत्रा विश्वविद्यालय),बी.लिब.(इंदिरा गाँधी अंतरराष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय) यूजीसी नेट,हरियाणा STET पुस्तकें- काव्य-संग्रह--"आइना","अहसास और ज़िंदगी"एकल...