Jun 20, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

कविता: ??अंजाम पता होता??

मुझपे किया है ओर पर तक़सीर न करना।
दिल लगाना किसी से दमे-शमशीर न करना।।

टूटकर वादे-इरादे ख़ाक हो जाएंगे पल में।
ज़ादा-ए-राहे-वफ़ा में गर्म तासीर न करना।।

जीते मर रहा हूँ तेरी बेवफ़ाई से आजतक।
रुस्वा मुझसा किसी को दिल-पज़ीर न करना।।

तुझसे तो काँटे भले हिफ़ाज़त ग़ुलों की करें।
झूलकर बाँहों में तू गले की ज़ज़ीर न बनना।।

एक बार कहती क़दमों तले ज़ान बिछा देता।
चुप रह बदनाम किसी का ज़मीर न करना।।

आँखों में सजे ख्वाब शीशे-से तोड़ दिए तूने।
इस तरह तडफ़ा किसी को अधीर न करना।।

किसी की हाय लेकर कौन ख़ुश रहा है यहाँ।
एक ज़श्न को तू पत्थर की लकीर न करना।।

पलभर के नशे में जाने ख़ुद को क्यों भूला।
इस तरह भूलने की आदत तासीर न करना।।

एक ग़ुनाह तो माफ़ किया जा सकता है,सुन!
हरबार माफ़ी की ख़्वाहिश हाज़िर न करना।।

इश्क़े अंज़ाम जानते तेरा नाम न लेते”प्रीतम”!
देकर भरोसा प्यार का तू दिले-पीर न करना।।
………..राधेयश्याम बंगालिया”प्रीतम”
??????????????

38 Views
Copy link to share
आर.एस. 'प्रीतम'
713 Posts · 73.8k Views
Follow 34 Followers
🌺🥀जीवन-परिचय 🌺🥀 लेखक का नाम - आर.एस.'प्रीतम' जन्म - 15 ज़नवरी,1980 जन्म स्थान - गाँव... View full profile
You may also like: