.
Skip to content

??◆उसके दर पर जो आया◆??

Radhey shyam Pritam

Radhey shyam Pritam

कविता

April 9, 2017

अ मालिक तेरी दया,हमपर ज़रा-सी हो जाए।
हो उजाला ज्ञान का,ग़म का अँधेरा खो जाए।।

सहमे-सहमे से हैं हम,थके-थके-से हैं क़दम।
ग़म की घटाएँ हैं छाईं,मंज़िल कहीं न खो जाए।।

दिखा तू रस्ता ज्ञान का,रहे भरोसा ध्यान का।
नेकियों के पथ पर चलें,जीवन सफल हो जाए।।

सामने सदा फर्ज़ रहे,देश का हमपे न कर्ज़ रहे।
हौंसला हो दिल में यही,हर मुसीबत खो जाए।।

हिन्दू,मुस्लिम,सिक्ख,ईसाई हैं सब भाई-भाई।
कभी किसी में वैर न हो,प्यार सभी में हो जाए।।

फल की आशा छोड़के,कर्मों में बस ध्यान रहे।
जैसा किया वैसा मिलेगा,दिल में तसल्ली हो जाए।

“प्रीतम”तेरी प्रीत का,है उसको भी ध्यान सदा।
उसके दर पर जो आया,खाली कभी न वो जाए।।

*†***************
*****************
राधेयश्याम बंगालिया….
……………..प्रीतम..
……………….कृत.
सर्वाधिकार…………….सुरक्षित

Author
Recommended Posts
मुक्तक
तेरी उम्र तन्हाई में गुजर न जाए कहीं! तेरी जिन्दगी अश्कों में बिखर न जाए कहीं! क्यों इसकदर मगरूर हो तुम अपने हुस्न पर? कोई... Read more
सफ़र आसान हो जाए
गुमनाम राहो पर एक नयी पहचान हो जाए चलो कुछ दूर साथ तो, सफ़र आसान हो जाए|| होड़ मची है मिटाने को इंसानियत के निशान... Read more
इंसान का मजहब
बैठे सब खुद का लिये किसको सुनाया जाए अपना गम लेके कहीं और न जाया जाए भेद कोई न हो इंसान रहें सब हो कर... Read more
निवाला छीन जाए कोई मुँह से अगर
निवाला छीन जाए कोई मुँह से अगर निवाला छीन जाए कोई मुँह से अगर, जिस्म दूर हो जाए रूह से अगर, बिना छत और रोटी... Read more