.
Skip to content

गजल – वादा निभाना पड़ेगा

Priyanshu Kushwaha

Priyanshu Kushwaha

गज़ल/गीतिका

January 28, 2017

गजल –
—————————-

जो किया था वादा वो निभाना पड़ेगा।
दिल के जख्मों पे मरहम लगाना पड़ेगा॥

जहां जाना है तुम चली जाओ लेकिन।
न चाहकर मेरी शायरी में आना पड़ेगा॥

जिन्दगी में गम है,परेशानियाँ बहुत हैं।
पानी है मंजिल तो मुस्कुराना पड़ेगा॥

बहे आसुओं को क्यों पिए जा रहे हो।
एक दिन ये बात सबको बताना पड़ेगा॥

कब तक छिपाओगे इस राज को तुम।
दिल में जो तस्वीर है वो दिखाना पड़ेगा॥

तुम हो राधा मेरी मैं कन्हैया तुम्हारा।
आज ये बात मैया को बताना पड़ेगा॥

तुम्हें देखना है जी भर के फिर से प्रिये।
सुबह छत पे केश सुखाने आना पड़ेगा॥

कहने को बहुत है लेकिन चुप रहूंगा मैं।
तुम्हें और है सुनना तो पास आना पड़ेगा॥

©✍?प्रियांशु कुशवाहा ‘प्रिय’
( छात्र/कवि )
शा० स्व० स्न० महा०
सतना
( मध्यप्रदेश )

दिनांक – 08/01/16

Author
Priyanshu Kushwaha
निवास- आर . के. मेमोरियल स्कूल के पास हनुमान नगर नई बस्ती सतना (म.प्र) शिक्षा- अपनी विद्यालयी शिक्षा सतना जिले में स्थित केन्द्रीय विद्यालय क्र.१, से प्राप्त की। वर्तमान में शासकीय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय में बी.एस.सी.(प्रथम वर्ष)के छात्र हूं ।... Read more
Recommended Posts
*किसी से कभी कोई वादा न कीजे*
किसी से कभी कोई वादा ना कीजे वादा तो इक दिन निभाना पड़ेगा कांटों से भरिये ना गैरों का दामन खुद का भी पहलू बचाना... Read more
दिलों में दिया फिर जलाना पड़ेगा
अंधेेरा सफर का हटाना पड़ेगा| दिलों में दिया फिर जलाना पड़ेगा| कदम कामयाबी का पहला रखा है, अभी दूर तक हमको जाना पड़ेगा| न चीखो... Read more
गजल
अब तो जहर को पीना पड़ेगा, सर्प के दंश को सहना पड़ेगा,, कोई भी मुझको विष दे दे तो, चन्दन बनके खुश्बू देना पड़ेगा,, जीवन... Read more
अंधेरा हमें ख़ुद हटाना पड़ेगा...!
अंधेरा हमें ख़ुद हटाना पड़ेगा उजाला दरीचों से लाना पड़ेगा। मुहब्बत की जब तक रवानी रहेगी बहारों को गुलशन सजाना पड़ेगा। नज़ाकत से' मेरी ख़ता... Read more