.
Skip to content

??◆बेटियाँ चंदा सरीखी हैं◆??

Radhey shyam Pritam

Radhey shyam Pritam

कविता

April 21, 2017

बेटियाँ चंदा सरीखी हैं,प्यार दीजिए।
शीतलता ही सीखी हैं,प्यार दीजिए।।

माँ का प्रतिरूप कुल संजीवनी शक्ति।
पूरक ये प्रभु लिखी हैं,प्यार दीजिए।।

हर साँस मे माँ-बाप का नाम इनके।
हरक्षेत्र अव्वल दिखी हैं,प्यार दीजिए।।

ससुराल में रह मायका भी प्यारा लगे।
दो घरों की तारीख़ी हैं,प्यार दीजिए।।

बेटी,बहन,माँ,दादी,नानी,बुआ,भाभी।
सर्वरूप संपन्न सलीखी हैं,प्यार दीजिए।।

शांत,करुण,वीर,शृंगार रस धारिणी ये।
वक्त लय की तहज़ीबी हैं,प्यार दीजिए।।

बेटा-बेटी दोनों एक सिक्के के पहलू।
संसारी जीवन बारीकी हैं,प्यार दीजिए।।

विधि-विधान समन्वय उपहार गज़ब है।
गीत-संगीत एकतालिखी हैं,प्यार दीजिए।

घर-आँगन की शोभा खुशी का सार।
भाई-कलाई की राखी हैं,प्यार दीजिए।।

“प्रीतम”बेटा-बेटी का अंतर भुला दिलसे।
बेटी समदृष्टि की सखी हैं.प्यार दीजिए।।
*************
*************
राधेयश्याम बंगालिया”प्रीतम”
प्रवक्ता हिन्दी
राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय
किरावड(भिवानी)
हरियाणा।

Author
Recommended Posts
मेरी वाणी को झंकार दे दीजिए
बंजरों में भी जल धार दे दीजिए निर्बलों को भी कुछ प्यार दे दीजिए जल न जाये कहीं फिर घरौंदा कोई मेरे जीवन का भी... Read more
हो सके तो ज़रा मुस्कुरा दीजिए
साऱे शिकवों गिलों को भुला दीजिए हो सके तो जरा मुस्कुरा दीजिए आप नाहक ही ऐसे परेशान हैं बात को बेवजह मत हवा दीजिए वक्त... Read more
हो सके तो जरा मुस्कुरा दीजिए
212 212 212 212 आप इतना करम बस अता कीजिए हो सके तो जरा मुस्कुरा दीजिए| आप महताब हैं जाने दिल ये मिरा एक पल... Read more
चलती है बेटियाँ
मंजिल की राह मे,चलती है बेटियाँ | चलती है बेटियाँ, बढ़ती है बेटियाँ || दिल हजारो अरमां,संजोती है बेटियाँ | संजोती है बेटियाँ, पिरोती है... Read more