गजल ज्ञानीचोर की

चाँद तारों की महफिल छोड़।
चलो अब आग से घर को सजाते है।। 1

टूटे तार जोड़ने को।
चलो! अब घर बसाते है।। 2

मिलेंगे रास्तें तन्हा।
चलो! अब दौड़ लगाते है।। 3

बिखरे हुए पैसे,उलझे हुए रिश्ते ।
लो इन कुछ धागों से,नये कपड़े बनाते है।। 4

ना मंदिर बनायेंगे, ना मस्जिद तोड़ेंगे।
चलो इक आदमी को हम,इन्सान बनाते है।। 5

आयेंगे अच्छे दिन,मैं ये कह नहीं सकता !
भाषण छोड़ दो अब तो,चलो कुछ दर्द मिटाते है।। 6

छोड़ दो तकरार, हिन्दु और मुसलमान।
चलो अब दर्द का मजहब बनाते है।। 7

इस गाँव में जन्मी या उस देश में जन्मी।
चलो अब हर लड़की को,अपनी बहिन बनाते है।। 8

ये माना तेरे कातिल, हुए है इस जमाने में।
चलो अब हम खुद को ही,सजा दिला ही देते है।। 9

अन्न खाता है किसका तू,फिर कुछ कर नहीं सकता।
चलो लाओं इक नेता,उसे किसान बनाते है।। 10

राजेश कुमार बिंवाल’ज्ञानीचोर’
गजल लेखन तिथि – रविवार 11 मार्च 2018
रात 11:47
9001321438

Like 3 Comment 4
Views 52

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share