.
Skip to content

??◆कमसिन उम्र है◆??

Radhey shyam Pritam

Radhey shyam Pritam

कविता

April 5, 2017

कमसिन उम्र है इतना मुस्क़राया न करो।
जुल्फ़ें छत पर जाकर सुलझाया न करो।।

पड़ोसियों की नज़रें अच्छी नहीं समझो।
इतना विश्वास किसी पर जताया न करो।।

हम तो हितैषी हैं ज़रा विश्वास तुम करो।
शक की नज़र हमें तुम लखाया न करो।।

होठों की बिजलियां कड़कती हैं जब भी।
दुपट्टे की ओट में तुम छिप जाया न करो।।

इश्क़ की आग जलाके ज़िगर रख देती है।
मेरी सलाह को कभी तुम ठुकराया न करो।।

जवानी का उफान दूध-सा होता है सुनिए।
शब्र का जल तुम इससे बचाया न करो।।

“प्रीतम”दिल की लगी दिल्लगी होती है यार।
इसे प्यार की गिरफ़त में तुम लाया न करो।।

******************
******************
???***आर.एस.बी.प्रीतम???

Author
Recommended Posts
यूँ रूठो ना……………..इतराया ना करो |गीत| “मनोज कुमार”
यूँ रूठो ना करो, यूँ गुस्सा ना करो इतना ना सताओ तुम, इतराया ना करो यूँ रूठो ना……………………………………………..इतराया ना करो हम प्यार तुम्हें जां प्यार... Read more
उठो सैनिकों वार करो
????? ????? उठो सैनिकों वार करो, स्वयं युद्ध की रणनीति तैयार करो। दिल्ली के आदेशों का, अब ना वीरों तुम इन्तज़ार करो। थाम बागडोर हाथों... Read more
नारी तुम अपनी पहचान करो ।
नारी तुम अपनी पहचान करो । उठकर अपना सम्मान करो । अबला नहीं तुम तो सबला हो शक्ति हो तुम ये तो ध्यान करो। नारी... Read more
चाहें  कितना भी तुम हमसे  शिकवा करो
चाहें कितना भी तुम हमसे शिकवा करो पर न खामोशियों को यूँ ओढ़ा करो दिल हमारा जरा ये बहल जाएगा ख्वाब में ही सही मिलने... Read more