गंगा

शुचित पावन नदी गंगा l
नहाकर मनु रहे चंगा ll
सभी के पाप धोती है l
हृदय में आस बोती है ll

भगीरथ की तपस्या से l
धरा उबरी समस्या से ll
नदी ऋषि स्वर्ग से लाए l
पितर को मोक्ष दिलवाए ll

जटा पर गंग को धारे l
उमापति शिव लगे प्यारे ll
नियंत्रित गंग को करते l
नदी की वेदना हरते ll

नदी स्नान मनु करके l
कमंडल नीर से भरके l
करें जो आचमन इसका l
सफल हर ध्येय हो सका ll

साई लक्ष्मी गुम्मा ‘शालू ‘
आंध्र प्रदेश
स्वरचित_ मौलिक

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share