.
Skip to content

गंगा की गुहार

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

कविता

July 22, 2016

गंगा की गुहार
***********
हे भागीरथ,
क्यों ले आये मुझे
देवलोक से धरा पर
कर दिया मैला
मेरा स्वच्छ आँचल
आज तरसती हूँ
बहते नीर को
आज संकट में हूँ मैं
मृत्यु निकट है मेरी
ये स्वार्थी मनुष्य
नष्ट कर रहे हैं मुझे
कितनी ही लाशें ढो चुकी मैं
बहुत मैला ढो लिया मैंने
श्वेत जल धारा को
काली गंगा बना दिया
हे भागीरथ
तुम तो लाये थे
अपनों को तारने हेतु
मैंने असंख्यों को तार दिया
अब तो मुझे भी तार दो
इससे पहले कि मैं मिट जाऊं
छोड़ आओ मुझे देवलोक
पुनः आ सकूँ धरा पर
किसी के बुलाने पर
सबको तारने
बचा रहे मेरा अस्तित्व
मेरी पवित्रता
मेरा कल कल बहता जल |

“सन्दीप कुमार”

Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती... Read more
Recommended Posts
गंगा का दोषी
गंगा का दोषी ********* सुनो भागीरथ गुनाहगार हो तुम दोषी हो तुम मुझे मैला करने के पुरखों को तारा तुमने मिला दी राख मुझमें चला... Read more
................भागीरथ की मैं गंगा ...............
भागीरथ की मैं गंगा कहूँ किससे अपनी पीर? पाप, मनुज तेरे धो -धो हुआ गंदा मेरा नीर।। होकर मैली अब गंगा नैनन से नीर बहाये... Read more
ग़ज़ल :-- ले चल मुझे मैं जहाँ चाहता हूँ !!
ग़ज़ल :-- ले चल मुझे मैं जहाँ चाहता हूँ !! हसीं भोर रंगी समा चाहता हूँ ! ले चल मुझे मैं जहाँ चाहता हूँ !!... Read more
मैं शक्ति हूँ
" मैं शक्ति हूँ " """""""""""" मैं दुर्गा हूँ , मैं काली हूँ ! मैं ममता की रखवाली हूँ !! मैं पन्ना हूँ ! मैं... Read more