.
Skip to content

“ गंगा ” का सन्देश

DESH RAJ

DESH RAJ

कविता

March 12, 2017

गंगा कल-कल करती जाती अविचल ,
मन है जिसका चंचल, हृदय स्वच्छ निर्मल ,
बह जाते जिसमें सारे के सारे दावानल ,
फिर भी जल है जिसका रहता शुभ मंगल I

फुदक-फुदक कर सन्देश दे प्रतिछण ,
बढ़ते जाओ खुद को बनाओ विलछण ,
जीवन में तभी तुम बनोगे कर्मठ-सबल,
मुझसे दूषित भी मिलकर बन जाते गंगाजल I

“माँ गंगा” का एक सन्देश :

मेरे आँगन में सब है जैसे एक थाल समान ,
खुद को ऐसा संवारो कोई न कर सके सवाल ,
सबको बता दो, जग में तुम हो एक बेमिसाल ,
“इंसानियत” से बढ़कर नहीं कोई धर्म मेरे लाल I

तेरे घर-आँगन में खेलता “राज ” हर पल ,
तुम ही बढ़ाती जाती हमेशा इसका मनोबल,
मन में उमंग, संघर्ष शीलता तुम्हारा तपोबल ,
सदियों तक रहोगी तुम, शुभ-मंगल गंगा जल I

गंगा कल-कल करती जाती अविचल ,
एक रहने की सीख बताती जाती प्रतिपल I

देशराज “राज”
कानपुर

Author
DESH RAJ
Recommended Posts
माँ गंगा
पतित पावनी निर्मल गंगा । मोक्ष दायनी उज्वल गंगा । उतर स्वर्ग आई धरा पर , शिव शीश धारणी माँ गंगा । जैसी तब बहती... Read more
जख्म आज भी ताजे हो जाते है
जख्म आज भी ताजे हो जाते है जब यादे बनकर वो पल आँखों के समक्ष आ जाते है दर्द होता है उस वक्त जब सारे... Read more
गंगा-स्नान
गंगा-तट पर जाकर भी ना, है पापों का भान l कौन कराएगा प्यारे, गंगा को स्नान l गंगा तट पर जाकर भी...l करके पावन जल... Read more
गंगा का दोषी
गंगा का दोषी ********* सुनो भागीरथ गुनाहगार हो तुम दोषी हो तुम मुझे मैला करने के पुरखों को तारा तुमने मिला दी राख मुझमें चला... Read more