गँवाई रे, गँवाई रे l गंवार ने गँवाई रे l

गँवाई रे, गँवाई रे l
गंवार ने गँवाई रे
प्रीत गवार ना कर,
गंवार ने सही जिंदगी,
गँवाई रे, गँवाई रे l
गंवार ने गँवाई रे l
प्रीत न गरज कर ,
प्रीत पर गरज कर,
गमों की धार, आई रे l
गंवार ने सही जिंदगी,
गँवाई रे, गँवाई रे l
गंवार ने गँवाई रे

अरविन्द व्यास “प्यास”

Like 1 Comment 0
Views 8

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share