.
Skip to content

खफ़ा हूँ मैं

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

कविता

September 10, 2016

“खफ़ा हूँ मैं”
*************

खफा हूँ मैं,
हाँ तुझसे बहुत खफा हूँ मैं,
मुझसे क्या नाराज़गी है तेरी,
तू बताता क्यों नहीं,
मेरे साथ जो होता है,
गर मेरी सज़ा है,
वजह बताता क्यों नहीं,
क्या अभी तक तेरा मन नहीं भरा,
अभी कल ही आइना देखा
सन्न रह गया,
मेरी दाढ़ी में से झांक रहे थे
कुछ सफ़ेद बाल
ये क्या हो गया,
क्या मैं बूढ़ा हो रहा हूँ,
३२ की वय सफेदी का आना,
ये कहाँ का न्याय है,
आज आइना देखता हूँ,
सर पर, चेहरे पर
सफेदी ही नजर आती है,
जिया भी नहीं हूँ मैं
अभी तो ढंग से
और तूने मुझे क्या बना दिया है,
मुझसे उम्रदराज लोग भी,
मुझसे छोटे नजर आते हैं,
और तू मुझसे क्या उम्मीद रखता है,
क्या दूँ मैं तुझे,
कहाँ से लाऊँ श्रद्धा मैं तेरे लिए,
मैं बहुत खफा हूँ तुझसे,
बहुत बहुत खफा हूँ।

“संदीप कुमार”

From the wall:
https://www.facebook.com/Sandeip001?fref=nf

Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती... Read more
Recommended Posts
क्या मैं इतना बुरा हूँ ?
क्यों अपनी ?कड़वी बातों से मारती है मुझको ? क्यों ये जुल्मी दुनिया? धिक्कारती है मुझको ? क्यों मेरी ज़िंदगी? खफा है मुझसे ? रुलाने... Read more
खफा
दुश्मनों की बात मत पूंछों , दोस्त भी बर्दाश्त नहीं होते । न जाने क्या हो गया मुझको ! खुद से बहुत खफा हूँ मैं... Read more
मैं लिखती हूँ
????? मैं क्या लिखती हूँ और क्यों लिखती हूँ स्वयं मैं नहीं जानती बस लिखती हूँ.. मैं लिखती हूँ.. ? अपनी प्रतिभा से यत्र-तत्र बिखरे... Read more
मजदूर (कर्म पुजारी)—डी. के. निवातियाँ
क्यों देखे जग घृणा से, मैं नही कोई अत्याचारी हूँ ! दुनिया कहे मजदूर मुझे, पर मैं तो कर्म पुजारी हूँ !! उठ चलता हूँ... Read more