.
Skip to content

ख़्वाब आँखों में सजाना चाहिए

बबीता अग्रवाल #कँवल

बबीता अग्रवाल #कँवल

गज़ल/गीतिका

February 18, 2017

ख्वाब आँखों में सजाना चाहिए
हसरतों को पर लगाना चाहिए

रास मुझकोे आएं कैसे ये खुशी
ज़ख़्म कोई फिर पुराना चाहिए

दर्द दिल में तो सभी के हैं मगर
ग़म को रोने का बहाना चाहिए

तोड़ कर नफ़रत भरी दीवार को
प्यार का सुर्ख रंग लगाना चाहिए

जिंदगी मिलती बड़ी मुश्किल से है
हार कर न इसे गँवाना चाहिए

काम कोई है नहीं करना मगर
आपको तो बस बहाना चाहिए

दिल कँवल का तोड़ते हो तोड़ दो
फिर न कहना मुस्कुराना चाहिए

बबीता अग्रवाल #कँवल

Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)
Recommended Posts
जीने का ना कोई बहाना चाहिए
जीने का ना कोई बहाना चाहिए अब तो यार वही पुराना चाहिए दिल को दिल से लगाना चाहिए इश्क़ में थोड़ा फड़फड़ाना चाहिए यार बना... Read more
हर सफर में मुस्कुराना चाहिए
फ़ासलें दिल के मिटाना चाहिए फूल होठों पर खिलाना चाहिए हर दुआ होगी तेरी पूरी मगर सर इबादत में झुकाना चाहिए ग़म मिले हमको या... Read more
दिल कहे, 'आना-जाना' चाहिए, रोज़ रोज़, 'नया बहाना' चाहिए।
#सफ़रनामा दिल कहे, 'आना-जाना' चाहिए, रोज़ रोज़, 'नया बहाना' चाहिए। दीदार को, उस रेशमी मुखड़े का अचूक, 'नज़र-ऐ-निशाना' चाहिए। एक से बचे दूजे गस खाके... Read more
** आसमां में सर अब उठा चाहिए **
जिंदगी को अब विराम चाहिए आदमी को अब आराम चाहिए कशमकश जिंदगी में बहुत है हल करने को हमराह चाहिए।। जीवन की कश्ती को पतवार... Read more