मुक्तक · Reading time: 1 minute

ख्वाहिश

कह दो ना उस मौत से
अपने घर चली जाय
ख्वाहिशों का परिंदा
अभी और उड़ना चाहता है।

2 Comments · 60 Views
Like
Author
73 Posts · 3.7k Views
Blogger, writer(stories,poems,ghazals,etc.)
You may also like:
Loading...