शेर · Reading time: 1 minute

ख्वाहिश

खुदगर्ज नहीं मेरी नज़रें
पर अफसोस सदा मनाती हैं
जिस पल तुम्हें मैं याद करूँ
दीदार तुम्हारा चाहती हैं।

1 Like · 1 Comment · 42 Views
Like
1 Post · 42 Views
You may also like:
Loading...