.
Skip to content

“ख्वाब “(प्रतीकात्मक मुक्तक)

ramprasad lilhare

ramprasad lilhare

मुक्तक

March 18, 2017

“ख्वाब”
(प्रतीकात्मक मुक्तक)

रात रूपी बगीची में
ख्वाब रूपी फूल खिले
नींद रूपी जल को पाकर
फूल खूब फले फूले
सुबह रूपी ताप पाकर
नींद रूपी जल सुख गया
नींद रूपी जल सुख गया तब
ख्वाब रूपी फूल टूट गया।

रामप्रसाद लिल्हारे
“मीना “

Author
ramprasad lilhare
रामप्रसाद लिल्हारे "मीना "चिखला तहसील किरनापुर जिला बालाघाट म.प्र। हास्य व्यंग्य कवि पसंदीदा छंद -दोहा, कुण्डलियाँ सभी प्रकार की कविता, शेर, हास्य व्यंग्य लिखना पसंद वर्तमान में शास उच्च माध्यमिक विद्यालय माटे किरनापुर में शिक्षक के पद पर कार्यरत। शिक्षा... Read more
Recommended Posts
प्रकृति
*मुक्तक* वृक्ष नम्रता -त्याग सिखाता, नदियाँ देना सिखलाती। द्युति किरणें दुख रूपी तम, को हर लेना सिखलाती। बूंद बूंद को जोड मेघ सम, बरसाते जल... Read more
मुक्तक
है चाहत उस मुकाम की जहाँ कोई कमी न हो! ख्वाब हों पलकों में कोई अश्कों की नमी न हो! इसतरह से फैली हो जहाँ... Read more
मुक्तक
मुक्तक - कौन यह कहता है कि ख्वाब तो झूठे होते हैं । इनसे ही तो पथ, जीवन के अनूठे होते हैं । साकार हो... Read more
कन्या रूपी फूल
मरवा डाला कोख मे,बेटी को हर बार! ढूढ रहा नवरात्र मे,कन्या को सब द्वार!! बेटे की शादी करें,..जहाँ लगा कर मोल ! वहाँ सुता के... Read more