Skip to content

* खोजता आज स्वअस्तित्व अपना *

साहित्यकारा नीरू मोहन

साहित्यकारा नीरू मोहन

हाइकु

September 20, 2017

विषय- खोज/तलाश
रेंगा काव्य शैली
5+7+5+7+7+5+7+5+7+7—–
* माँ दरबार
मनोकामना पूर्ण
तलाश मेरी
संपूर्ण फलीभूत
इच्छाएँ हैं संतुष्ट

* खोजता आज
स्वअस्तित्व अपना
रात्रि का तम
प्रकाश है फैलाए
चंद्रज्योत्सना लिए

* विभा छा जाए
प्रकाश की तलाश
उर रोशन
आदित्य उषा लाए
प्रभात बेला लिए

Share this:
Author
साहित्यकारा नीरू मोहन
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on... Read more
Recommended for you