.
Skip to content

*खेल खिलौने* , *राखी का बंधन*(सेदोका छंद)

Dr.rajni Agrawal

Dr.rajni Agrawal

हाइकु

August 5, 2017

विधा-सेदोका
विषय-खेल खिलौने/ राखी का बन्धन
*खेल खिलौने*
**********

खेल-खिलौने
घर-घर आकर
बच्चों को ललचाते
रंग-बिरंगे
संग साथी पाकर
पुलकित हो जाते

*राखी का बंधन*
************
दौज को बाँधा
भाई की कलाई में
रेशम का कंगन
रक्षा कवच
उपहार बना है
ये राखी का बंधन

#डॉ.रजनी अग्रवाल “वाग्देवी रत्ना”

Author
Dr.rajni Agrawal
 अध्यापन कार्यरत, आकाशवाणी व दूरदर्शन की अप्रूव्ड स्क्रिप्ट राइटर , निर्देशिका, अभिनेत्री,कवयित्री, संपादिका समाज -सेविका। उपलब्धियाँ- राज्य स्तर पर ओम शिव पुरी द्वारा सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार, काव्य- मंच पर "ज्ञान भास्कार" सम्मान, "काव्य -रत्न" सम्मान", "काव्य मार्तंड" सम्मान, "पंच रत्न"... Read more
Recommended Posts
रेखाओं  के खेल
लक्ष्मण रेखा तोड़कर सिया के उर थी पीर रेखाओं के खेल ये कौन बंधाता धीर कुछ हद तक बंधन भी उचित हुआ करते हैं आज... Read more
राखी का त्योहार
उत्साहित है हर नगर ,शहर गली बाजार ! रक्षा बंधन का पुनित, आया है त्यौहार !! फीका फीका सा लगे, राखी का त्यौहार ! जी... Read more
खिलौने का मोह.....
नहीं छोड़ पाया अपने खिलौने का मोह वो बालमन! छीना-झपटी करते रहे घण्टों एक-दूसरे के संग! नजर मेरी टकटकी लगाये देख रही थी उनके गुन!... Read more
राखी
राखी हाइकु स्नेह की डोरी, अटूट ये बंधन, नींव गहरी। रेशमी धागा, विश्वास बहन का, हृदय स्पर्शी। नीचे सूत है, ऊपर से रेशमी, प्रेम की... Read more