.
Skip to content

खेलें ऐसी होली

AWADHESH NEMA

AWADHESH NEMA

कुण्डलिया

March 13, 2017

होली के त्यौहार पर, खुशियां मिले अपार ।
झूम उठे मन आपका, हो रंगी संसार ।।
हो रंगी संसार, मिलें सब रूठे अपने ।
हो जाएं साकार, जो देखे होवें सपने ।।
हो असीम मन बावरा, लगे हर सूरत भोली ।
डूब जाए सब प्रेम रंग में, खेलें ऐसी होली ।।

Author
AWADHESH NEMA
मध्यप्रदेश शासन कृषि विभाग में उप संचालक कृषि, आई आई टी खरगपुर से वर्ष 1984 में भूमि एवं जल संरक्षण अभियांत्रिकी से एम. टेक.। अध्ययन यात्रा हेतु आस्ट्रेलिया भ्रमण । आई टी प्रयोग तथा उत्कृष्ट लोकसेवा प्रबंधन हेतु मुख्यमंत्री पुरूस्कार... Read more
Recommended Posts
** ना देख मन के भेद **
ना देख मन के भेद ना मन में कोई खेद ????? रंग मिलते हैं होली में मन मिलते हैं होली में मन खिलते हैं होली... Read more
शिल्प- 1 2 3 2 1 शब्द (1) होली का त्योहार जीवन में लाया रंगों की बौछार। (2) होली में जलते अत्याचार, कपट, छल निष्पाप... Read more
रंग बिरंगी होली आई
रंग बिरंगी होली आई इठलाती बलखाती आई रंग बिरंगी होली आई रंगों की फुहार उड़ा कर घर घर दस्तक देती जाती होली आई होली आई... Read more
बरसे है रंग.................... होली आई आज
बरसे है रंग और उड़े है गुलाल होली आई, होली आई, होली आई आज सुर भी है ताल और गीतों के साथ होली आई, होली... Read more