.
Skip to content

खेती का खेल

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

गीत

July 15, 2017

खेती का भी खेल अजब है, जीत के भी हम हारे हैं
अन्नदाता कहलाते फिर भी भूखे पेट हमारे हैं

धूप, आँधियाँ, बारिश, पाला, हमको नहीं डिगा पाएं
कीट, पतंगे, रोग, बीमारी, सपने कई मिटा जाएं
आशाओं के बीज ही बोते, राह भले अंगारे हैं
अन्नदाता कहलाते फिर भी भूखे पेट हमारे हैं

खेत जोत पहली बारिश में, उन्नत बीज लगा आये
बंधी टकटकी आसमान पे, आस सभी टूटी जाये
बारिश की अब राह में देखो, सूखे खेत हमारे हैं
अन्नदाता कहलाते फिर भी भूखे पेट हमारे हैं

बेटा पढ़ना चाह रहा है, बिटिया है बढ़ती जाती
पत्नी की छोटी चाहत भी, मुझको मुँह चिढ़ा जाती
कर्जे के अब बोझ तले क्यूँ, किस्मत के हम मारे हैं
अन्नदाता कहलाते फिर भी भूखे पेट हमारे हैं

दुनिया भर के स्वप्न उगाकर अपने स्वप्न भुला जायें
रात-दिन मेहनत करके भी, हाथ सिर्फ आसूँ आयें
जय जवान और जय किसान भी, आज बने बस नारे हैं
अन्नदाता कहलाते फिर भी भूखे पेट हमारे हैं

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’
बैतूल (म. प्र.)

Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक...आई आई टी रुड़की से पी एच डी...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....
Recommended Posts
बारिश
बारिश ----------- बारिश से यही गुज़ारिश है। तुम वक्त-वक्त पर आया करो। आने से तेरे ख़ुशहाल ज़िन्दगी। तुम खुशहाली बरसाया करो। मेरे खेत देखते-तक़ते राह... Read more
*****ज़रा सोचिए?????  रोटी का सत्य***
क्या कहें हम किसी से , ये छोटी सी बात | सबने यही कहा कि रोटी बुझाती है , इस भूखे पेट की आग |... Read more
*एक प्रश्न आपके लिए* 1 मई, साल के एक दिन या हर दिन
1 मई हम मजदूर दिवस के रूप में मनाते हैं| क्यों हम एक ही दिन मजदूरों के सम्मान को दिलाते हैं ? क्या वह सब... Read more
पहले पेट काम फिर दूजा ! शिक्षा दीक्षा वक़्त अबूझा ! मात पिता ने - राह थमा दी ! जैसे खेला - खेल रहे हैं... Read more