गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

खूबसूरत धरा बना देंगे

खूबसूरत धरा बना देंगे
पेड़ों से हम इसे सजा देंगे

प्यार से देखभाल करके हम
कष्ट धरती के सब मिटा देंगे

फिर यहाँ चहचहायेंगे पंछी
फूलों से हम चमन खिला देंगे

घोलती विष यहाँ फिजाओं में
हम बुरी आदतें भुला देंगे

कीमती बूँद बूँद है जल की
पाठ बच्चों को ये पढ़ा देंगे

‘अर्चना’ खाते हैं कसम अब हम
स्वर्ग सा ये वतन बना देंगे
डॉ अर्चना गुप्ता

42 Views
Like
1k Posts · 1.3L Views
You may also like:
Loading...