"खूबसूरत जिन्दगी "

ख्वाहिशों के पन्ने ना पलटिये ,
सिलवटें पड़ जाती हैं ,
और उम्र गुज़र जाती है ,
मगर पूरी नहीं होती हैं ,
यादों को भी समेट दीजिये,
इन्हीं पन्नों के बीच,
परत -दर -परत,
मिलती है बडी मुश्किल से,
छोटी सी ये खूबसूरत ज़िंदगी ,
हौसलों के पंख पसारिये,
अपने आज पे न्योंछावर,
अपने कल को कर दीजिये,
अपने आने वाले कल को
अपनी आगोश में भर लीजिये.
…निधि…

Like Comment 0
Views 98

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share