.
Skip to content

” ———————————– खूबसूरत जहां है ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गज़ल/गीतिका

January 17, 2017

माँ ने कहा था , खूबसूरत जहां है !
बन्द हुई आँख , फिर कुछ न यहां है !!

बिगड़ी बनाने की , हमने की हिम्मत !
किस्मत हंस दी , वक़्त रुकता कहाँ है !!

फटी हुई चादर में , जब पैर पसारे !
सपनों ने पूछ लिया , नया कहाँ है !!

खुशबू के जंगल में , ज़िस्म खो गये !
लोगों की आँखों में , हया कहाँ है !!

रिश्तों की डोर यों , कमजोर हो चली !
खून है वही पर , अब जोश कहाँ है !!

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
कहाँ है वो भारत
कहाँ है वो भारत सोने की चिडि़या। कहाँ वो संस्कृति ललायत थी दुनिया। कहाँ वो देव भूमि राम और कृष्ण की कहाँ वो राजनीत सेवा... Read more
तेवरी
जिनको देना जल कहाँ गये सत्ता के बादल कहाँ गये ? कड़वापन कौन परोस गया मीठे-मीठे फल कहाँ गये ? जनता थामे प्रश्नावलियां सब सरकारी... Read more
**************************** दुआ बन्दगी की निशानी कहाँ है । मरा आँख में आज पानी कहाँ है । सिसकती मेरे देश की आज सरहद । बता और... Read more
प्राण कहाँ !
हे मेरे भारत के लोग कैसा दुःखद ये संयोग; सह रहे जो आजतक वियोग, क्या मिल पायेगा कोई सफल योग ! नहीं सफल योग मुस्कान... Read more