खुश रहा करो -- गजल /गीतिका

खुश रहने की नहीं कोई कीमत,
जीवन में खुश रहा करो।
कहां बोलना कहां न बोले,
सोच समझकर कहा करो।।
नीति नियम पर चलो हमेशा ।
अनितियों से दूर रहा करो।।
भूल के भी न करो भूल कभी।
वसुलों पर अडिग रहा करो।।
आप भी मानव हम भी मानव।
मानवता में बहा बहा करो।।
कट जाए हंसते-हंसते जीवन यह अपना।
पल हर पल खुश रहा करो।।
राजेश व्यास अनुनय

5 Likes · 4 Comments · 21 Views
रग रग में मानवता बहती। हरदम मुझसे कहती रहती। दे जाऊं कुछ और ,जमाने तुझको,...
You may also like: