कविता · Reading time: 1 minute

खुशी

????
खुशी आत्मा की उपज है।
सबको मिलती नहीं सहज है।
?
कोई एक गुलाब से भी खुश हो जाता है।
कोई मँहगा तोफा पाकर भी आँसू बहाता है।
?
खुशी मन का एक भाव है।
खुशी सकारात्मक प्रभाव है।
?
कोई लाखो कमा कर रोता है।
तो कोई भूखे पेट भी हँसता है।
?
खुशी मन की भावना का उदगार है।
खुश रहना हर व्यक्ति का अधिकार है।
?
खुशी प्रसन्नता की एक झलक है।
खुशी की हर व्यक्ति को ललक है।
?
खुश रहने का एक राज है।
खुशी बाँटना मेरा अंदाज है।
?
जहाँ खुशी रहती वहाँ आशा है।
जहाँ खुशी नहीं वहाँ निराशा है।
?
खुशी मन की एक भाषा है।
खुशी की नहीं कोई परिभाषा है।
?
सब खुश रहे
बस इतनी सी अभिलाषा है।
????—लक्ष्मी सिंह ??

182 Views
Like
You may also like:
Loading...