Jul 30, 2016 · कविता

खुशबू का झोंका

थका सा कुछ निराश सा
सो गया नींद के इंतजार में
सुबह के इंतजार में
बिगर नहाये चले गये
पानी के इंतजार में
दुकान पर जा बैठे,ग्राहक के इंतजार में
कुछ ले बैठे,कुछ दे बैठे
कुछ लेने के इंतजार में
कुछ देने के इंतजार में
यू ही पिसते रहे दुनियादारी के
झमेलों से,
खुशियो के इंतजार में
जिंदगी यू ही गुजर गयी
ओर अच्छी जिंदगी की चाह में
कब्र में लटक गये पैर
अब बैठे है कफन के इंतजार में***
^^^दिनेश शर्मा^^^

51 Views
सब रस लेखनी*** जब मन चाहा कुछ लिख देते है, रह जाती है कमियाँ नजरअंदाज...
You may also like: