.
Skip to content

खुद फूंक रहे हैं

guru saxena

guru saxena

घनाक्षरी

August 30, 2017

खुद फूंक रहे हैं
घनाक्षरी छंद
काट काट रेल की पटरियां उखाड़ रहे,
स्टेशन मिटाने में नहीं चूक रहे हैं।
आफिसों में तोड़फोड़ सभी शीशे रहे फोड़,
नजर उठाए जो भी उसे हूंक रहे हैं।
बसों में लगा रहे हैं आग दौड़ दौड़कर,
कई निरदोष आँच में ही सूख रहे हैं।
भारत के दुश्मनों तुम कुछ भी न करो,
हम तो हमारा देश खुद फूंक रहे हैं।

गुरु सक्सेना नरसिंहपुर मध्य प्रदेश

Author
guru saxena
Recommended Posts
खुद को है
जिन्दगी के हरेक  दंगल में......... .....................लड़ना खुद को है। .....................भिड़ना खुद को है। ......................टुटना खुद को है। ......................जुड़ना खुद को है। ये वक्त,बेवक्त माँगती हैं... Read more
पढ़ना तो सीखो, लिखना खुद-ब-खुद सीख जाओगे
पढ़ना तो सीखो, लिखना खुद-ब-खुद सीख जाओगे। गिरना तो सीखो, उठाना खुद-ब-खुद सीख जाओगे। बोलना भी आजकल बच्चे सीखने जाने लगे हैं। सुनना तो सीखो,... Read more
स्त्री
स्त्री अबला और सबल , के बीच बढ़ चली स्त्री चाँद तक , मौन तोड़ कर ... अपने सपने ख़ुद बना रही है , बुन... Read more
खुद पे ही इक ये अहसान किया है किया है मैने
खुद पे ही इक ये अहसान किया है मैने खुद को खुद से ही अंजान किया है मैने ****************************** मेरे दुश्मन भी अब देते हैं... Read more