गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

#ग़ज़ल-10

कमियाँ औरों की न निकाला कीजिए
पहले खुद-खुद को संभाला कीजिए/1

मन दलदल हो अपना तो धो लीजिए
कीचड़ गैरों पर न उछाला कीजिए/2

धोखा पाकर भी तू रखना हौंसला
वो चिंगारी खुद को ज्वाला कीजिए/3

नदिया सागर में मिलके है ठहरती
हथियार सरे-राह न डाला कीजिए/4

फौजी जान गँवा देश सेवा कर रहे
तू दिल खोकर दिल न दिवाला कीजिए/5

“प्रीतम”उम्मीदों के रख जुगनू सदा
रात घिरे तो घर में उजाला कीजिए/6

-आर.एस.प्रीतम
सर्वाधिकार सुरक्षित सृजन

4 Likes · 2 Comments · 112 Views
Like
You may also like:
Loading...