.
Skip to content

*खुद को जिसने जाना है*

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

कविता

June 11, 2016

खुद को जिसने जाना है !
खुदा को उसने जाना है !!

अपना सबको माना है !
फ़िर कोई नही बेगाना है !!

खुद को जिसने जाना है!
खुदा को उसने जाना है !!

लबों पर यही तराना है !
सब कुछ आना जाना है !!

दुनियाँ मुसाफ़िरखाना है
सांसों का कर्ज़ चुकाना है!!

खुद को जिसने जाना है !
खुदा को उसने जाना है !!
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
Recommended Posts
*पहचान*
खुद को जिसने जाना है ! खुदा को उसने जाना है !! अपना सबको माना है ! फ़िर कोई नही बेगाना है !! खुद को... Read more
गीतिका-  जिसने खुद को है पहचाना
गीतिका- जिसने खुद को है पहचाना ◆●◆●◆●◆●◆ जिसने खुद को है पहचाना उसके आगे झुका जमाना दुनिया में तो दुख हैं लाखों फिर भी इनसे... Read more
प्यार
S Kumar कविता Aug 6, 2017
किसी के साथ सपने देखना प्यार नहीं किसी के सपनों को पूरा करना प्यार है ।। सिर्फ किसी के साथ जीना प्यार नहीं, किसी से... Read more
किसी ने बुरा जाना किसी ने भला जाना
किसी ने बुरा जाना किसी ने भला जाना, मैं जो खुद को जान न सका जाने औरो ने क्या पहचाना ।। जिस दिन सो जाऊंगा,भारत... Read more