31.5k Members 51.9k Posts

खिलें एक ही बाग में

Apr 18, 2020 08:05 AM

खिलें एक ही बाग में , बेशक फूल तमाम ।
होता है हर फूल का ,लेकिन अलग मुकाम ।।

दिल मे जिस के पाप की, रही सुलगती आग ।
आए कोयल भी नजर, ….उसे हमेशा काग ।।
रमेश शर्मा.

2 Likes · 48 Views
RAMESH SHARMA
RAMESH SHARMA
मुंबई
501 Posts · 33.1k Views
दोहे की दो पंक्तियाँ, करती प्रखर प्रहार ! फीकी जिसके सामने, तलवारों की धार! !...
You may also like: