Jul 28, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

खिलखिलाने पे न जा

अश्क़ करें बेशक चश्म नम नहीं
भिगोते रूह को मेरी वो कम नहीं
************************
खिलखिलाने पे न जाना तू मेरे
खोखली है ये हंसी कोई दम नहीं
************************
कपिल कुमार
28/07/2016

चश्म……..आँखे
अश्क़…..आँसू

4 Views
Kapil Kumar
Kapil Kumar
154 Posts · 2.3k Views
Follow 1 Follower
From Belgium View full profile
You may also like: