खिलखिलाने पे न जा

अश्क़ करें बेशक चश्म नम नहीं
भिगोते रूह को मेरी वो कम नहीं
************************
खिलखिलाने पे न जाना तू मेरे
खोखली है ये हंसी कोई दम नहीं
************************
कपिल कुमार
28/07/2016

चश्म……..आँखे
अश्क़…..आँसू

Like Comment 0
Views 3

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share