Skip to content

खामोश हूँ मैं कुछ वक्त के लिये

Priyanka Sharma

Priyanka Sharma

कविता

May 10, 2017

गमों को हमें
छुपाना नहीं आता,
मुस्कुराना और
हँसाना नहीं आता
खामोश हूँ मैं
कुछ वक्त के लिये
क्यूंकि
दोस्तों को मुझे
रुलाना नहीं आता,
यह दिन
जब ढल जाएगा
आयेगें फिर हम
नव उत्साह के साथ
क्यूंकि हमें किसी को भी
भूलाना नहीं आता|

Author
Priyanka Sharma
शिक्षा- एम. ए (गोल्ड मेडलिस्ट),बी. एड| बचपन से कविता और कहानियाँ लिखने का शौक|साझा कविता संकलनों मे कई कविताएं प्रकाशित| "पिता" कविता के लिये गोल्ड मेडल|फिलहाल पी एच. डी. कर रही|
Recommended Posts
"अब तो मैं.... डरता हूँ" (शेर) 1. मैं कहाँ अदावत से डरता हूँ मैं तो बस ज़िलालत से डरता हूँ इतना लूटा गया हैं मुझे... Read more
मैं बेटी हूँ
???? मैं बेटी हूँ..... मैं गुड़िया मिट्टी की हूँ। खामोश सदा मैं रहती हूँ। मैं बेटी हूँ..... मैं धरती माँ की बेटी हूँ। निःश्वास साँस... Read more
मैं कभी चाँद पर नहीं आता
दिल पे कोई असर नहीं आता याद तू इस क़दर नहीं आता रात आती है दिन भी आता है कोई अपना मगर नहीं आता चाँद... Read more
झरोखा
झरोखा जब कभी देखता हूँ यादो के झरोखो से बहुत कुछ बिखरा हुआ नजर आता है पीछे पड़ा हुआ है एक ढेर, टूटे हुए सपनो... Read more