.
Skip to content

****’खामोशी’ भी बोलती है*****

Neeru Mohan

Neeru Mohan

कविता

January 31, 2017

*खामोश हूँ,पर
कहना अभी बाकी है बहुत कुछ |
जिंदगी के लम्हे कम है
मगर कहने को बातें अभी बाकी हैं बहुत कुछ |

*दिया जो साथ जिंदगी ने
खामोशी तोड़ दूँगा मैं |
खामोश रहने के लिए
किया है मजबूर
जिन्होंने मुझे आज तक |
उन्हीं के आगे उनकी सच्चाई
खोल दूँगा मैं |

*ना समझना कमजोर मुझे
तू ऐ मेरे मुंसिब |
दोस्ती के खोल में
जो निभाई है तूने दुश्मनी मुझसे |
उसकी सारी परते
एक-एक करके खोल दूँगा मैं|

Author
Neeru Mohan
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on... Read more
Recommended Posts
**  कैसी ख़ामोशी **
मैं खामोश हूं, पर जुबां बोलती है जुबां जो कहती है,वह मन की आवाज नहीं है जुबां खामोश ही तो आँखें बात करती है खामोश... Read more
जिंदगी
1. जिंदगी, मुश्किल ही सही पर, मजे़दार बहुत है ! 2. जिंदगी, तुम वो तो नहीं ? जो पहले मिली थी कहीं, 3. जिंदगी, कभी... Read more
कमी हिम्मत में कुछ रखती नहीं मैं-------  गज़ल
कमी हिम्मत में कुछ रखती नहीं मैं बहुत टूटी मगर बिखरी नहीं मैं बड़े दुख दर्द झेले जिंदगी में मैं थकती हूँ मगर रुकती नहीं... Read more
'सहज' के दोहे -खामोशी
खामोशी पसरी रही,लोग रहे भयभीत। दूर-दूर तक मौन थे,छन्द-ग़ज़ल औ गीत। हम जब तक खामोश थे,खूब चल गई पोल। ठान लिया अब बोलना,होगा डब्बा गोल।... Read more