.
Skip to content

खामोशी की चीख

हेमा तिवारी भट्ट

हेमा तिवारी भट्ट

कुण्डलिया

February 17, 2017

खामोशी की चीख में,सुन्न हुआ अब शोर
लगा रहे सब आंकलन,किसका होगा जोर
किसका होगा जोर,रहे भरमायी जनता
जनसेवक जो आज,वही कुर्सी पर तनता
कुर्सी वाले देखना,देवेंगे बस भीख
शोर में दब जायेगी,खामोशी की चीख
✍हेमा तिवारी भट्ट✍

Author
हेमा तिवारी भट्ट
लिखना,पढ़ना और पढ़ाना अच्छा लगता है, खुद से खुद का ही बतियाना अच्छा लगता है, राग,द्वेष न घृृणा,कपट हो मानव के मन में , दिल में ऐसे ख्वाब सजाना अच्छा लगता है
Recommended Posts
बाढ का कहर
किया बाढ ने देश मे,.......ऐसा बंटाधार ! कितनो के टूटे हृदय,कितनो का घर बार !! कहे कहानी बेरहम, बर्बादी की बाढ़ ! आया है फिर... Read more
गलती
********"गलती"*********** "मैंने कितना सोचा, इस बारे में, ये सवाल है, जवाब तो तलाशना ही होगा, फिर एक सांचे में ढाल के सोचा, अंदर -बाहर हुआ,... Read more
'सहज' के दोहे -खामोशी
खामोशी पसरी रही,लोग रहे भयभीत। दूर-दूर तक मौन थे,छन्द-ग़ज़ल औ गीत। हम जब तक खामोश थे,खूब चल गई पोल। ठान लिया अब बोलना,होगा डब्बा गोल।... Read more
मेरी खामोशी उनको लगे गुरूर
दूँ किसको अब दोष मैं,किसका कहूँ कसूर ! मेरी खामोशी उन्हें, ..लगती अगर गुरुर !! जब तक उनका स्वार्थ था,तालुकात थे ठीक ! उनको भाता... Read more