.
Skip to content

खाँसी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

कविता

November 8, 2016

खाँसी
वास्तव में
खाँसी नहीं है,
प्रतीपगमन है
भावनाओं का ।
यानि – सिर्फ़
आगे बढ़ना ,
या सिर्फ़
पीछे मुड़ना ।
खाँसी,खाँसी नहीं
प्रकार है , जैसे-
मेरी खाँसी या
उनकी खाँसी ।
लेकिन-
उनकी खाँसी,
खाँसी नहीं,
संकेत है,किसी
बलबे का,या
किसी झगड़े का ।
वो जब खाँसते हैं,
तो चौकन्ना
हो जाता है मीडिया ।
अख़वार
प्रथम पृष्ठ का
अर्द्धभाग
सुरक्षित रखता है,
उनकी खाँसी को
दर्ज़ा देने
साहित्य का ।
वो देखो !
ज़रा गौर से देखो !!
उस महिला के
रंगीन वस्त्र ,
श्वेत हो गए हैं,
यक-ब-यक ,
उनके खाँसने के बाद ।
लेकिन-
मेरी खाँसी,
मेरी खाँसी महज़
खाँसी ही है , जो
उदर के
वक्राकार मार्ग में
सरल रेखा बनाती हुई
मुँह से निकलकर
आकाश की ओर
द्वंद्वयुक्त किन्तु
स्वच्छंद , चली जाती है ,
चली जाती है,
अपने सूरज
की तलाश़ में ।
-ईश्वर दयाल गोस्वामी।

कवि एवं शिक्षक।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
*****माँ जैसा कोई नहीं****
करुणामयी , ममतामयी होती है सिर्फ माँ सब पर प्यार बरसाने वाली होती है सिर्फ माँ ममता का आँचल फैलाने वाली होती है सिर्फ माँ... Read more
सिर्फ और सिर्फ हम दोनों पर कविता
कितनी बार चाहा कि लिखूँ सिर्फ और सिर्फ हम दोनों पर ही कविता और खो जाएँ हम एक दूसरे के अन्तःकरण में इस तरह फिर... Read more
तुम हो तो..................
तुम हो तो सब कुछ है तुम हो तो सपने हैं तुम हो तो बहुत से रिश्ते अपने हैं तुम हो तो सपनों के रंग... Read more
सिर्फ चार आना।
*सिर्फ चार आना* बूढ़े पिता ने खांसते हुए कहा, क्या था वो हमारा ज़माना। तीज त्योहार की हर खुशी, मिलती थी सिर्फ चार आना।। एक... Read more