.
Skip to content

ख़ाक में मुझको मिलाने आ गए

बबीता अग्रवाल #कँवल

बबीता अग्रवाल #कँवल

गज़ल/गीतिका

March 8, 2017

जिंदगी भर जह्र पिलाने आ गये
ख़ाक में मुझको मिलाने आ गये

जी रहे थे हम यहाँ ओ.. बेवफ़ा
क्यों हमें फिर से सताने आ गये

दूर हमसे हो गये थे बेवजह
फासले अब क्यों मिटाने आ गये

रात की रंगीनियों में खो गये
दिल मिरा देखो जलाने आ गये

मुश्किलों से हो गया जो सामना
दर खुदा के सर झुकाने आ गये

हो गई तुझसे मुहब्बत है कँवल
आज ये तुझको बताने आ गये

गिरहबंद-
चाँद छूने के बहाने आ गए
हम भी क़िस्मत आज़माने आ गए

Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)
Recommended Posts
कहाँ आ गए हम
ये कौन सी मंजिल,कहाँ आ गये हम. धरा है या क्षितिज,जिसे पा गये हम. ज़िंदगी के इस मोड़ पे मिले हो तुम, सारा जहाँ छोड़,तुम्हें... Read more
दिन शायराने आ गए.......
यूं लगा दिन ज़िंदगी में शायराने आ गए अब गज़ल के काफिये हम को निभाने आ गए | अब बड़े भाई को दादा कौन कहता... Read more
फिर आयी गति में स्वयं,,आरक्षण की नाव! निश्चित भारत वर्ष मे..फिर आ गये चुनाव!! बिरयानी बँटने लगी,बँटने लगा पुलाव ! शायद मेरे देश में, फिर... Read more
गज़ल :-- मैकदों में लड़खड़ाने आ गए ॥
गज़ल :--मैकदों में लड़खड़ाने आ गए ॥ प्यार वो हम से जताने आ गए । आज फ़िर से आजमाने आ गए । बेडियां पैरों में... Read more