.
Skip to content

ख़याल ,एहसास,शब्द और बुलबुले

Yatish kumar

Yatish kumar

कविता

November 3, 2017

ख़याल ,एहसास,शब्द और बुलबुले

शब्द के फेंके जाल में
दर्द के बुलबुले फँसते है
हाँ उन बुलबुलों में काँटे है
जो तीर की तरह चुभतें है

मेरी बातें तेरे जालों में
तेरी बातें मेरे जालों में
बात न पहुँचती हमतक़
यू हीं ख़ुद में उलझते है

ये बुलबुलों के आबले है
हथेली पे नहीं टिकते
हाँ ज़ेहन और यादों में
इनकी तबियत लगती है

कुछ बुलबुले है जो तकिये पे पड़े है
कुछ हैं जो बिस्तर कि सिल्वटों में छिपें हैं
इन सिलवटों को सीधा नहीं करते
ख़याल इनमे दुबके पड़े महफ़ूज़ रहते हैं

कुछ है जो रात से छत पे टंगे है
और कुछ,बाहों में सिमटे पड़े हैं
कुछ है जो आँखों के कोने में टिके हैं
कुछ हैं जो आँसू के संग पुराने ख़त में लिपटे है

मैं ख़याल हूँ मुझको लिखना नहीं आता
पर क्या बुलबुलों को भी उड़ना नहीं आता
आँखों में बंद कर लो अंदर सो जाएँगे
नींद में मत चलना झट से ये उड़ जाएँगे

फिर कभी हाथों में नहीं आएँगे क्योंकि
तुमको यार यतीश उड़ना नहीं आता

यतीश ९/८/२०१६

Author
Yatish kumar
Recommended Posts
शब्द वेद है शब्द कुरान्
शब्द ताकत है शब्द दुआ है शब्द घातक है शब्द दवा है शब्द वेद है शब्द कुरान है शब्द बाइबिल शब्द पुरान है शब्द अल्लाह... Read more
शब्द -आराधना करके बनता है महान मानव इससे ही सुनता है भाव भगवान ये कमाल है शब्दों की शक्ति का जिससे बढ़ती है न सिर्फ़... Read more
अल्फ़ाज़
मैं अल्फाज़ हूँ तेरी हर बात का अर्थ मालूम है मुझे मैं एहसास हूँ तेरे जज़्बातों का,मालूम है मुझे पर कभी तू भी तो कुछ... Read more
शब्द नाद हैं शब्द ब्रह्म हैं, शब्द गीत स्वर धारा हैं !
शब्द नाद हैं शब्द ब्रह्म हैं, शब्द गीत स्वर धारा हैं ! शब्द आदि हैं, शब्द अंत हैं, शब्द कथा महिमा अनंत है विनय प्रीत... Read more