.
Skip to content

ख़फा ख़फा।

Neelam Sharma

Neelam Sharma

गीत

May 31, 2017

रद़ीफ- ख़फा ख़फा।

हवाएं भी ख़फा ख़फा
फिजाएं भी​ख़फा ख़फा।
नज़रें मिलें भी तो कैसे मिलें,
हैं निगाहें भी ख़फा ख़फा।

ये मौसम भी ख़फा ख़फा
और घटाएं भी ख़फा ख़फा।
ज़माने से भला कैसे लड़ें,
जब प्रीत ही है ख़फा ख़फा।

हुई धरा भी ख़फा ख़फा
और अंबर भी ख़फा ख़फा।
हाय, बातें दिल की कहें किसे,
जब जान और जिगर हों ख़फा ख़फा।

है आशा भी ख़फा ख़फा
और निराशा भी ख़फा ख़फा।
किस बोली में इज़हार करूं,
हैं भाषा भी ख़फा ख़फा।

गलियां भी ख़फा ख़फा और
चौराहे भी ख़फा ख़फा।
मिलें तो किस डगर उनसे,
हैं राहें भी ख़फा ख़फा।

वो आए भी ख़फा ख़फा
वो गये भी ख़फा ख़फा।
महफ़िल में थे, मेरी जब तक,
वो रहे भी ख़फा ख़फा।

नीलम शर्मा

Author
Neelam Sharma
Recommended Posts
क्यों हो खफा हम....
खफा है बहुत से मुझ से, पर हम खफा नही किसी से, क्यों हो खफा हम किसी से, किसी से हमने लिया कुछ नही, दे... Read more
☀ *कैसे कहे कैसे*☀
Sonu Jain कविता Oct 26, 2017
☀ *कैसे कहे कैसे*☀ नाराज कोई हो तो मानये कैसे,,,, दूर से ही दिले दर्द दिखाये कैसे,,,, वो खफा खफा से लगे रात खावो मे,,,,... Read more
तू अगर हे बहुत ख़फ़ा मुझ से,,,
==========ग़ज़ल============ तू अगर है बहुत ख़फ़ा मुझ से! कैसे रखता है राब्ता मुझ से!! बस ज़बां से बताना मुश्किल था! वो इशारों में कह गया... Read more
खफा
दुश्मनों की बात मत पूंछों , दोस्त भी बर्दाश्त नहीं होते । न जाने क्या हो गया मुझको ! खुद से बहुत खफा हूँ मैं... Read more