23.7k Members 49.8k Posts

खव्वाइश‌‌‌‌‌

कर्जदार हूँ तेरी दुकान का
चलना हैं कुछ कमाने मकान का
न शरीर में वस्त्र का सहयोग
ना खाने को निवाला
कैसी दशा हैं
अब तू बता उपरवाला।
तेरी नौकरी मे हैं खाली जगह
जहाँ सुख -चैन मिलता हो वहाँ
सांसाारिक जीवन के स्तर पर ना मिला संतुष्ट
अब नफरत भी कहता है मुझे दुष्ट
गलती हुई मानाा जीवन है प्यार
दोस्ती मौज मस्ती है तो बस है प्यार
करना भी इनके लिए
जाना भी था इनके लिए
जुदाई भी हमारी हँसी बने
यही खव्वाइश हैं हमारी।
-ऋषि के.सी.(कृति)

Like 1 Comment 0
Views 14

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Author Rishi(ऋषि के.सी.) K.C.
Author Rishi(ऋषि के.सी.) K.C.
9 Posts · 215 Views
नाम-ऋषि के.सी. जनम-१ जनवर, २०००। शिक्षा - xii स्कूल - राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय कसान...